आमीर खान ने ट्विट कर रिलीज किया दंगल का ट्रेलर, सोशल मीडिया पर दिनभर छाया रहा आमीर का बुखार

आमीर खान की फिल्‍म दंगल के कुछ अंश
आमीर खान की फिल्‍म दंगल के कुछ अंश

 

नई दिल्‍ली: अभिनेता आमीर खान की आगमी फिल्‍म दंगल का  ट्रेलर लंबे इंतजार के बाद गुरुवार को आखिर रिलीज हो ही गया। यू तो आमीर खान की फिल्‍म हमेशा ही उनके फैन्‍स के लिए चर्चा का विष्‍ाय बनी रहती हैं, लेकिन आमीर ने जैसे ही अपने ट्विटर से दंगल का आधिकारिक ट्रेलर साझा किया, सभी सोशल मीडिया माध्‍यमों पर यह चर्चा का विषय बन गया।

फिल्‍म क्रिस्‍मस से ठीक पहले 23 दिसंबर को सिनेमाघरों में दस्‍तक देगी। ट्रेलर के मार्केट में आते ही आमीर खान के करोड़ों फैन्‍स ने इसेे हाथों हाथ लिया। 3:29 मिनट के  इस ट्रेलर के यू-ट्यूब पर आते ही पहले 12 घंटों के दौरान 42 लाख लोगों ने इसे देखा। गुरुवार को यू-ट्यूब पर यह सबसे अधिक बार देखे जाने वाला वीडियो बन गया। सिर्फ यू-ट्यूब ही नहीं, फैसबुक और और टिवटर टेंडस में सारा दिन दंगल पर ही चर्चा होती रही।

आमीर खान प्रोडक्‍शन में बनी दंगल में दिखाया गया है कि आमीर हरियाणा के रहने वाले हैं और उनका सपना है कि उनका बेटा देश के लिए ऑलंपिक में गोल्‍ड मैडल लेकर  आए, लेकिन लगातार उनकी पत्‍नी ने चार बेटियों को जन्‍म दिया। जिसके चलते वह काफी निराशा हो गए। उनका मानना था कि कुश्‍ती मे गोल्‍ड मैडल लाकर देेश का नाम उंचा करने का काम तो केवल एक पुुरुष्‍ा ही कर सकता है।

सलमान खान की सुल्‍ताान की तर्ज पर कुश्‍ती पर आधारित है दंगल

बीते दिनों बॉक्‍स आफिस पर आकर धमाल मचा चुकी सलमान खान ही फिल्‍म सुल्‍तान के बाद अब आमीर की फिल्‍म भी हरियाणा और कुश्‍ती पर ही आधारित है। अब देखना यह होगा कि कमाई के मामले में रिकॉर्ड बना चुकी सुलतान को दंगल कितना टक्‍कर दे पाती है। सुलतान में सलमान खान की पत्‍नी बनी अनुष्‍का भी एक कुश्‍ती की प्‍लेयर थी। इसी तर्ज पर दंगल में भी बेटियों के सशक्तिकारण काेे लाेेगों का ध्‍यान आकर्शित किया गया है। बता दें कि हरियाणा देश का ऐसा राज्‍य हैं जहां पुरुषों के अनुपात में महिलाएं सबसे कम हैं।

फिल्‍म में दिखाया गया है कि एक दिन आमीर खान को पता चला कि उनकी दो बेटियां गीता और बबीता ने  कुछ हम उम्र बच्‍चों की जमकर धुनाई कर डाली है। गाली देने पर गीता और बबीता ने दोनोंं को खूूब पीटा। यह बात जब फिल्‍म में मुख्‍य भूमिका निभा रहे आमीर खान को पता चली  तो वह हैरान हो गए। तब उनके मन से यह भ्रम टूट गया कि खेलों में गोल्‍ड मैैडल छोरियांं भी ला सकती है। इस घटना से प्रभावित होकर उन्‍होंने अपनीी बेटियों को कुश्‍ती के गुण सिखाने शुरू किए।

आमीर ने अपनी बेटी गीता और बबीता को पूरी एकाग्रता के साथ कुश्‍ती सिखाई। बेटियो और  कुश्‍ती के बीच किसी भी प्रकार के मनोरंज व व्‍यक्ति के आने पर वह खुद सक्रिय हो जाते और उन्‍हें रास्‍ते से हटा देते। उन्‍होंने अपनी बेटियों को सिखाया कि दूसरे स्‍थान पर आकर सिलवर जीतने वाले को कभी कोई लंबे समय तक याद नहीं रखता। असली मान और सम्‍मान तो केवल गोल्‍ड जीतने वाले को मिलता है।

 

COMMENTS

Leave a Comment