जेल में सिख पगड़ी पहन सकेगा आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू

नई दिल्ली: फिल्मी अंदाज से पंजाब की नाभा जेल से भागने वाले खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटू ने अदालत के समक्ष एक अजीब मांग की है। उसने जज साहब से कहा कि वह एक सिख है। देश के सभी सिख पगड़ी पहन कर रखते हैं। ऐसे में उसे जेल के अंदर पगड़ी पहनने की इजाजत दी जाए। अदालत ने उसकी इस याचिका को स्वीकार कर लिया है। हालांकि इस बात का शक भी जताया जा रहा है कि मिंटू इस पगड़ी का दुरुपयोग कर उसका फंदा बनाकर जेल के अंदर ही आत्महत्या करने का प्रयास कर सकता है।

सूत्र बताते हैं कि दिल्ली पुलिस का टार्चर झेल चुका हरमिंदर सिंह मिंटू इस वक्त काफी दबाव में है। वह जेल में गुमसुम सा रहता है और किसी भी अन्य कैदी से बात नहीं करता। ऐसे में इस बात की संभावनाएं प्रबल हैं कि वह जेल में अपनी जान लेने का प्रयास कर सकता है। जेल प्रशासन ने वार्डन को मिंटू पर कड़ी नजर रखने की हिदायत दी है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रितेश सिंह के समक्ष न्यायिक हिरासत की मियाद बढ़ाए जाते वक्त आरोपी ने मौखिक तौर पर अदालत के समक्ष कहा कि वह एक सिख

हरिमंदर सिंह मिंटू को जेल में सिख पकड़ी पहनने की मिली इजाजत
हरिमंदर सिंह मिंटू को जेल में सिख पकड़ी पहनने की मिली इजाजत

है। एक सिख हर वक्त पगड़ी पहन कर रखता है। पगड़ी पहनना उसका अधिकार है। ऐसे में उसे उसके इस अधिकार से वंचित नहीं रखा जा सकता है। उसने अदालत से दरख्वास्त की थी कि जेल प्रशासन को यह हुक्म दिया जाए कि वह उसे पकड़ी मुहैया कराएं ताकि वह अपने धर्म के अनुसार पकड़ी पहन सकूं।
इसपर अदालत ने कहा कि तिहाड़ जेल प्रशासन के पास अपने जेल मैन्युअल उपलब्ध हैं। ऐसे में जेल मैन्युअल के अंतर्गत रहते हुए आरोपी की इस याचिका को स्वीकार किया जाता है। मिंटू को अब अदालत के समक्ष 26 दिसंबर को पेश किया जाएगा।

 

मिंटू 26 नवंबर को अपने पांच अन्य साथियों के साथ नाभा जेल से फिल्मी अंदाज में फरार हुआ था। अगले ही दिन दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 27 नवंबर को निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के पास से मिंटू को गिरफ्तार कर लिया था। वह कई बार पाकिस्तान जा चुका है। पहले मिंटू बब्बर खालसा इंटरनेशनल का सदस्य था बाद में उसने खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स के नाम से अपना अलग संगठन तैयार कर लिया था। गिरफ्तारी के वक्त उसके पास से एक पिस्टल, छह कारतूस बरामद हुए हैं।

Leave a Comment