युवक ने कहा- मेरा महिला से था एक्सट्रा मेरिटल अफेयर, लेकिन यह कहानी पड़ी उलटी

नई दिल्ली : एक युवक ने अदालत के समक्ष स्वयं यह बात कबूल करी कि उसका महिला के साथ एक्सट्रा मेरिटल अफेयर चल रहा था। दोनों रजामंदी से एक दूसरे के साथ लंबे समय से संबंध बना रहे थे। हालांकि अदालत ने युवक की इस दलील को दरकिनार करते हुए उसे दुष्कर्म करने का दोषी पाया और उसे 10 साल कैद की सजा सुनाई।

दोषी जोगेंद्र यादव ने अदालत के समक्ष खुद को निर्दोष साबित करने का हर संभव प्रयास किया। एक्सट्रा मेरिटल अफेयर की सामने रख कर उसने यह साबित करने का प्रयास किया कि महिला चरित्रहीन है। उसने कहा कि महिला का पति जब भी घर से दफ्तर काम करने के लिए चला जाता था तो पीछे से वह उसे बुला लेती थी। दोनों के बीच मर्जी से शारीरिक संबंध बनते थे।

दोषी ने अपने बचाव में यह तक कह डाला कि महिला के पति ने उससे कुछ रुपये उधार लिए थे। अब वह रुपये लौटा नहीं पा रहे थे। दबाव बनाने पर महिला ने अपने पति के साथ मिलकर उसे दुष्कर्म के झूठे मुकदमे में फंसाने का षडयंत्र रचा।

केवल महिला के बयान पर सुनाई अदालत ने सजा

तीस हजारी अदालत की फास्ट ट्रैक कोर्टके जज शैल जैन ने अपने आदेश में केवल महिला के बयान तो तवज्जो दी। उन्होंने कहा कि महिला का बयान अपने आप में युवक को दोषी करार दिए जाने के लिए काफी हैं। उन्हें इस बाबत किसी अन्य शख्स की गवाही वह जिरह की जरूरत नहीं है। न्यायाधीश ने कहा कि महिला के बयान व अभियोजन पक्ष की पूरी थ्योरी में शुरू से लेकर अंत तक समानता पाई गई है। दोनों के बयानों में किसी प्रकार का विरोधाभास नहीं है। ऐसे में महिला पर शक करने का उनके पास कोई कारण नहीं बनता है। लिहाज युवक को दुष्कर्म करने का दोषी करार दिया जाता है। दोषी को अदालत ने 10 साल कारावास की सजा सुनाई।

महिला ने पुलिस के समक्ष एक्सट्रा मेरिटल अफेयर की कहानी को झूठ करार दिया था। उसका कहना था कि पति के काम पर जाने के बाद पड़ोस में रहने वाला युवक जबरन घर में घुस आया था। उसे डरा धमका कर बच्चों के सामने ही दुष्कर्म का शिकार बनाया गया। घर से भागते वक्त उसने दोषी पर चाकू से हमला भी कर दिया था। जिसमें वह मामूली रूप से घायल हो गया था।

 

COMMENTS

Leave a Comment