हाई एंड बुलेट से स्टंटबाजी के दौरान हवलदार को उड़ाने वाले को सजा

नई दिल्ली: बुलेट बाइक के दीवाने कुछ युवकों ने अपनी बाइक को मॉडिफाइड कर एक दम फंकी और एक दम हाई एंड बना दिया। फिर वह इस बाइक से तफरी करने करने के लिए दिल्ली की सड़कों पर निकले। नई दिल्ली में स्टंटबाजी के दौरान जब पुलिसकर्मियों ने उन्हें रुकने का इशारा किया तो नई पीढ़ी के यह युवक अचानक आग बबुला हो गए। उन्होंने पुलिसकर्मी को ही उड़ा दिया। दिल्ली पुलिस का हवलदार हवा में उछलते हुए दूर जाकर गिरा। उसकी जान जाते जाते बची। पेश मामले में सख्ती दिखाते हुए दिल्ली की एक अदालत ने इस अपराध में शामिल दोनों युवकों को दोषी करार दिया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमित बंसल ने प्रवीन और विनय गौतम नामक दोनों युवकों को आइपीसी की धारा 188 (सरकारी कर्मचारी के कार्य में बाधा पहुंचाना), 353 व 333 (सरकारी काम में बाधा पहुंचाते हुए कर्मचारी को बुरी तरह से घायल कर देना) और 34 (समान मंशा से एक से अधिक व्यक्ति द्वारा वारदात को अंजाम देना) के तहत दोषी करार दिया। पुलिस द्वारा दोनों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा भी दर्ज किया गया था। हालांकि अदालत ने उक्त अपराध को सही नहीं मानते हुए उन्हें बरी कर दिया। सजा को लेकर अभी फैसला नहीं हुआ है। नाबालिग पर मामला बाल अदालत में चल रहा है।

Youngster stunting on the city road
Youngster stunting on the city road

पुलिस का कहना था कि दोनों दोषी अपनी बुलेट मोटरसाइकिल पर एक नाबालिग के साथ सवार थे। उन्होंने अपनी बुलेट को मॉडिवाइड कर एक दम स्टाइलिश बनाया हुआ था। पांच जुलाई 2013 को रात 12 बजे तीनों तिलक मार्ग स्थित सी-हैक्सागन पर पहुंचे। वह लगे नाके पर पुलिसकर्मियों ने उन्हें रुकने का इशारा किया। इसी बीच बाइक सवार एक शख्स ने ‘मारो इन पुलिस वालों कोÓ कहते हुए बाइक की गति बढ़ाने का कहा। युवकों ने हवलदार जगदीश की दोनों टांगों के बीच में टायर घुसाते हुए उन्हें उछाल कर दूर फेंक दिया था। हालांकि हादसे में उनकी बाइक भी असंतुलित होकर गिर गई और उन्हें मौके पर ही दबोच लिया गया था। जिस बुलेट पर वह सवार थे उसे मॉडिफाइड कर एक दम हाई-एंड व फंकी बनाया गया था। बाइक पर नंबर प्लेट भी नहीं थी और न ही उन्होंने हेलमेट पहने हुए थे।

Leave a Comment