फाइव स्टार होटल में दुष्कर्म का शिकार अमेरिकी युवती ने तीन आरोपियों को पहचाना

नई दिल्ली: कनॉट प्लेस स्थित फाइव स्टार होटल में दो दिन तक पांच लोगों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म का शिकार बनाई गई अमेरिकी युवती ने मंगलवार को चार आरोपियों में से तीन को पहचान लिया है। हैरानी की बात है कि आठ माह के अंतराल के बाद पीडि़ता हिम्मत दिखाते हुए भारत आई। दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए पांच में से चार आरोपियों को तिहाड़ जेल में शिनाख्त परेड के लिए उसके सामने पेश किया गया। 25 वर्षीय पीडि़ता ने जज की मौजूगी में सामूहिक दुष्कर्म करने वाले टूरिस्ट गाइड अनिरुद्ध सिंह, बस चालक ओम प्रकाश व बस के हेल्पर मकसूद को पहचान लिया।

वारदात में शामिल चौथा आरोपी पार्क होटल का क्लीनर है। महिला उसे पहचान पाने में विफल रही। उसने कहा कि शायद इस वह शख्स नहीं है जिसने उसके साथ दुष्कर्म किया है। चार में से तीन आरोपियों को पहचानना पुलिस के लिए एक बड़ी कामयाबी है। पुलिस जल्द ही मामले में आरोप पत्र दाखिल कर आरोपियों को सजा तक पहुंचाने का प्रयास करेगी।

सोमवार शाम को चार आरोपियों की गिरफ्तारी करने के बाद पुलिस ने मंगलवार को उन्हें पटियाला हाउस कोर्ट के महानगर दंडाधिकारी हरविंदर सिंह के समक्ष पेश किया। सभी चार आरोपियों को दो दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेजा गया।

पीडि़ता को वापस अपने देश लौटना है, जिसके चलते दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को ही चारों आरोपियों की जेल में शिनाख्त परेड कराने का निर्णय लिया। दिल्ली पुलिस के साथ तिहाड़ जेल पहुंची पीडि़ता ने महानगर दंडाधिकारी पंकज शर्मा की मौजूदगी में चार में से तीन आरोपियों की पहचान की।

पीडि़ता अप्रैल महीने के पहले हफ्ते में भारत घूमने के लिए आई थी। वह कनॉट प्लेस स्थित पार्क होटल में ठहरी हुई थी। उसका कहना है कि शीतल पेय व पानी में नशीला पदार्थ मिलाकर पिलाने के बाद दो दिनों तक पांच आरोपियों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। मारपीट कर पीडि़ता के साथ अप्राकृतिक संबंध भी बनाए गए थे।

घटना के बाद युवती ने शिकायत नहीं की थी और जयपुर आदि जगहों पर घूमने के बाद वापस अमेरिका लौट गई थी। वहां भी उसने घटना के तीन महीने बाद अपनी मां को आपबीती बताई। युवती ने अमेरिका की एनजीओ के जरिए बीते 3 दिसंबर को पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार वर्मा को शिकायत की थी, जिसके बाद मुकदमा दर्ज कर यह गिरफ्तारियां की गई।

Leave a Comment